मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ?

मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ?

 
नमस्कार दोस्तो आज हम वात करेगें मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम (Motor Accident Claim) यानी एम0 ए0 सी0 (MAC) के वारे मे 
 
आज हम जानेगें -:
  1. एक्सीडैन्ट क्लेम (Accident Claim) किन परिस्थितियो मे प्राप्त किया जा सकता है? 
  2. इसे पाने का क्या प्रोशेश होता है? (Motor Accident Claim Process)
  3. क्लेम मिल ने मे लगभग कितना समय लगता है?
  4. इसके सम्बन्ध मे याचिका कहां दायर की जाती है?
  5. इसके लिए आपको किन दस्तावेजो (Documents) की जरूरत पडती है?
  6. कोर्ट द्वारा इसे कैसे कैल्कुलेट किया जाता है? 
 
मोटर एक्सीडेन्टल क्लेम (Motor Accident Claim) जैसा की नाम से ही आप समझ गये होंगें कि मोटर एक्सीडैन्ट होने पर मोटर एक्सीडेन्ट क्लेम मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ? प्राप्त होता है।
 
यानी जव किसी व्यक्ति के साथ किसी वाहन द्वारा कोई ऐसी घटना हो जाए। जिसमे उसके शरीर मे कोई गंभीर चोट आये या -
 
जिससे उसका कोई अंग भंग हुआ हो तो ऐसी स्थति मे उसे स्वंम को या उसकी मृत्यू हो गई हो तो उस पर आश्रित व्यक्तियो को यह मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम (Motor Accident Claim) प्राप्त होता है।

मान लीजिए की कोई व्यक्ति रोड पर अपनी वाइक , साइकिल या फिर पैदल ही जा रहा है और अचानक से कोई कार आकर उसको टक्कर मार देती है।
 
और उस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है या उसका कोई हाथ या पैर घटना मे इस तरह प्रभावित हो जाता है कि जिससे उसकी आय प्रभावित हो जाए। तव उस व्यक्ति द्वारा मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम (Motor Accident Claim) प्राप्त किया जा सकता है ।

अगर यह पता चल जाता है कि किस व्यक्ति द्वारा उस व्यक्ति को चोट पहुचाई गई है तो उस गाडी के चालक के खिलाफ उस व्यक्ति के घर वालो या रिश्तेदारो द्वारा सवसे पहले थाने पर एफ0 आई आर0 (FIR- Frist Information Repot) करानी चाहिए ।
 
यदि यह पता नही चल पाता की किस गाडी के द्वारा टक्कर मारी गई थी तो ऐसे मे पुलिस अज्ञात मे एफ0 आई0 आर0 (FIR- Frist Information Repot) दर्ज कर लेती है और धटना की जॉच करती है।

ऐसी स्थति मे जव व्यक्ति को अत्यधिक चोट आई हो तो उसके इलाज मे खर्च होने वाले पैसो के सम्वन्ध मे विशेष ध्यान यह रखे की मरीज के इलाज मे खर्च हुए सारे विल समहाल कर रखे जाये।
 
और दवाईया इत्यादि के विल जरूर ले क्योकि यह सारे विल अदालत मे याचिका दायर करते समय काम आते है । मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ?

यहॉ इस प्रकार घटना होने पर जहॉ व्यक्ति को चोट लगी हो तो वह स्वंम और यदि व्यक्ति की मृत्यू हो गई हो।
 
तो उस पर आश्रित व्यक्तियो द्वारा मोटर व्हीकल एक्ट 1988 (Motor Vehicle Act 1988) के तहत उस व्यक्ति के इलाज मे खर्च हुई सारी धनराशी और चोट लगने या मृत्यू होने से उस व्यक्ति की आय मे हुई कमी की धनराशी वसूल करने के लिए कोर्ट मे याचिका दायर की जा सकती है।

अव वात करते है मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम (Motor Accident Claim) की इस प्रकार की कोई घटना हो जाने पर व्यक्ति उस घटना से हुई आर्थिक क्षति के लिए मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के तहत 
 
जिस जगह पर घटना हुई है वहां या फिर जहॉ वाहन का स्वामी यानी जिस व्यक्ति द्वारा आपको अपनी गाडी से चोट पहुचाई गई है।
 
वह जहॉ रहता है वहां या जहॉ उस गाडी के इन्श्योरेन्श कम्पनी (Insurance Company) का ऑफिस है वहॉ के मोटर एक्सीडेन्टल क्लेम (Motor Accident Claim) ट्रिवुनल मे याचिका दायर की जा सकती है।

Documents required for motor Accident Claim

अव वात करते है कि आपको किन किन दस्तावेजो की जरूरत पडती है।
  1. उस घटना की एफ0 आई0 आर0 (FIR- Frist Information Repot) 
  2. व चार्ज शीट की सर्टिफाइड कॉपी 
  3. इलाज के दौरान खतम हुए सारे खर्चो से सम्बन्धित दस्तावेज 
  4. और जिस व्यक्ति को चोट आई है या मृत्यु हुई है उस व्यक्ति की इनकम से सम्बन्धित सभी दस्तावेज
  5. और जो व्यक्ति याचिका दायर कर रहा है उन सभी का आधार कार्ड 
ये सभी दस्तावेज न्यायालय मे याचिका दायर करते समय काम आते है।

कोर्ट मे जव याचिका दायर की जाती है तो याचिका मे याचिका दायर करने वाले का 
  1. पूरा नाम 
  2. व पता
  3. आधार कार्ड 
यदि 1 से ज्यादा व्यक्ति है तो सभी का नाम व पूरा पता तथा जिस गाडी से घटना हुई थी उसके मालिक का पूरा नाम व पता
 
और इसी के साथ ही आपको उस गाडी की इन्शयोरेन्स कम्पनी (Insurance Company) का पूरा नाम व उसके ऑफिस का पूरा पता ये सारे विवरण आप को याचिका मे प्रस्तूत करने होते है।
 
इसी के साथ 
 
धटना का दिनॉक ,मरने वाले का नाम व पता, उसकी उम्र ,मरने वाले व्यक्ति से याचिका दायर करने वाले व्यक्तियो का सम्वन्ध 
 
तथा धटना से सम्वन्धित सभी तथ्य, क्लेम के रूप मे मॉगी गई धनराशी और मरने वाले की इनकम इन सभी विवरणो को आपको अपनी यायिका मे लिखना होता है ।

ऐसे मे कोर्ट याचिका प्राप्त हो जाने के वाद गाडी के मालिक और इन्श्योरेन्स कम्पनी
(Insurance Company) दोनो को नोटिस भेजती है।
मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ?
 
और फिर मालिक और इन्श्योरेन्स कम्पनी (Insurance Company) नोटिस मिल जाने के वाद कोर्ट मे उस याचिका का जवाव प्रस्तुत करते है। 

accident claim process Hindi

 कोर्ट की प्रोशेश के आधार पर क्लेम की पिटिशन मे भी वही सारी प्रक्रिया अपनाई जाती है जो कि सिविल मुकदमो मे अपनाई जाती है और ऐसे मे कोर्ट दोनो पक्षो की गवाही कराती है।
 
फिर मामले की पूरी तरह से जॉच करने के वाद यदि घटना सही पाई जाती है तो कोर्ट परिस्थितियो के हिसाव से क्लेम की धनराशी दिये जाने का आदेश कर देती है।
 
यहॉ अगर गाडी का इन्शयोरेन्श था तो इन्श्योरेंस कम्पनी (Insurance Company) को और अगर इन्श्योरेन्स नही था तो गाडी के मालिक को क्लेम का पैसा पीडित व्यक्ति या उसके घर वालो को देने का आदेश कर दिया जाता है।
 
यहॉ अगर घटना के समय गाडी अगर कोई नावालिग चला रहा था या चालक के पास लाइसेन्स नही था तव गाडी का इन्शयोरेन्स हाने के वावजूद भी मालिक को क्लेम देना होता है।
 
कोर्ट इस तरह की क्लेम याचिका मे क्लेम की कैल्कुलेशन मरने वाले की कुल आय का 1/3 उसकी अपनी स्वंम की आवश्यकताओ को मानते हुए कम कर देती है।
 
और उसके वाद मरने वाले की उम्र को ध्यान मे रखते हुए मोटर व्हीकल एक्ट 1988 मे दी गई टेविल के हिसाब से क्लेम को कैल्कुलेट करती है।
 
इस तरह पूरी प्रोशेष मे लगभग 1 से 2 साल का समय लग जाता है यह कम या अधिक भी हो सकता हे । 
 

accident claim in india

 ऐसे मे जव काई आदेश पीडित या उसके घर वालो को क्लेम की रकम देने का कर दिया जाता है तो यदि क्लेम की रकम इन्श्योरेन्स कम्पनी को देनी हो तो इन्श्योरेन्स कम्पनी (Insurance Company) उसका भुगतान करती है।
 
और यदि क्लेम की रकम मालिक को देनी हो तव भी कार्ट इन्श्योरेन्स कम्पनी (Insurance Company) को राइट टू रिकवरी (Right To Recovery) देते हूए पीडित को भुगतान करने का आदेश कर सकती है ।

राइट टू रिकवरी से मतलव यह है कि अदालत इन्शयोरेन्स कम्पनी को यह आदेश देती है कि भले ही क्लेम की धनराशी चुकाने का भार मालिक पर गया है।
 
लेकिन इस समय इन्शयोरेन्स कम्पनी Insurance Company ही पीडित या पीडित के घर वालो को पैसा अदा करेगी और वाद मे गाडी के मालिक से वसूल करेगी ।इससे यह फायदा होता है कि पीडित पक्षकार का क्लेम Claim का पैसा समय रहते वसूल हो जाता है। 

तो दोस्तो मुझे लगता है कि आप मोटर एक्सीडैन्ट क्लेम MAC कैसे प्राप्त करें ? का सारा प्रोशेश समझ गये होगे धन्यवाद।
Previous
Next Post »

Thank you !
We will reply to you soon ConversionConversion EmoticonEmoticon