Section 133 Crpc in Hindi | धारा 133

Section 133 Crpc in Hindi

धारा 133 न्यूसेंस के सम्बन्ध में जिला मजिस्ट्रेट या उपखण्ड मजिस्ट्रेट या राज्य सरकार द्वारा कोई अन्य कार्य पालक मजिस्ट्रेट के अधिकारों के सम्बन्ध में प्रावधान करती है। न्यूसेंस का मतलब असल में उन बस्तुओ या गतविधियों से है। 

जिनसे जनसामान्य को किसी तरह की परेशानी या दिक्कत होती हो या बह जन सामान्य के लिए  घातक साबित हो सकता है धारा 133 दंड प्रक्रिया सहिंता इस तरह के न्यूसेंस को हटाने या उसे हटाने के सम्बन्ध में कार्यवाही करने के अधिकार के बारे में बताती है। 

जिसमे धारा 133 दुआरा A ,B. C, D, E ,F छे प्रकार के न्यूसेंस के बारे में बताया गया है ऐसे में मजिस्ट्रेट इन 6 प्रकार के न्यूसेंस को हटाने के लिए धारा 133 के अंतर्गत आदेश दे सकता है और ऐसे न्यूसेंस को हटाने के लिए आवश्यक  कार्यवाही करने का आदेश भी दे सकता है। 

जिसमे नंबर - 1 इस प्रकार के न्यूसेंस के बारे में बताता है कि जहा कोई लोक स्थान या कोई सड़क ,नदी ,नाले ,तालाब ,नहर आदि जो सामान्यतः आम जनता के उपयोग में लती जाती हो। 

और ऐसी जगहों पर बिधि बिरुद्ध तरीके से कोई रुकाबट लायी गयी है मजिस्ट्रेट ऐसी रुकाबट को हटाने के लिए आदेश दे सकता है। 

2 . इसी तरह अगर कोई ऐसा व्यापर चलाया जा रहा है जिसमे कोई  ऐसा माल या सामान रखा गया है जो सामान्य जन के स्वास्थ्य और शरीर के लिए हानिकारक है। 

तो ऐसे माल या सामान को हटाए जाने का आदेश भी मजिस्ट्रेट द्वारा धारा 133 के अंतर्गत दिए गए प्रावधानों द्वारा आदेश दिया जा सकता है। 

इसी तरह बाकि 4 दिए गए न्यूसेंस को हटाने के सम्बन्ध में मजिस्ट्रेट द्वारा धारा 133के प्रावधानों के अंतर्गत आदेश दिया जा सकता है। 

इसे भी पढ़े - Crpc Section 129 in Hindi

  1. क्या किसी के मकान या दुकान के सामने अतिक्रमण किया है और उस मकान और दुकान में ग्राहकों का आने जाने का रास्ता रोक लिया है और अब मकान दुकान में ग्राहकों की पार्किंग नहीं है तो क्या न्युसेंस की धारा 133 के अन्तर्गत उस अतिक्रमण को हटा सकते हैं

    ReplyDelete

Thank you !
We will reply to you soon