एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है इतिहास

एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है इतिहास

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका अपने ब्लॉग Gyani Law  में आज हम बहुत ही मजेदार topic पे एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है बात करने बाले है।

अपने कभी न कभी किसी अधिवक्ता यानि वकील को काला कोट पहना तो देखा ही होगा तो आखिर एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है तो आज हम इसी के बारे जानेंगे।

कई बार यह जानने और समझने में मिलता है कि कई लोग पूछते है की एडवोकेट या बकील काला कपडा या कोट क्यों पहनते है। 

या जज लोग काला कपडा क्यों पहनते है। इसके लिए क्या सिग्नीफिकेशन है आज हम इसपे बात करेंगे। 

तो पहली बात ये की अगर हम सिग्नीफिकेशन की बात करें तो हमारे पास 1961 का अधिवक्ता एक्ट / Advocate Act है। 

जहा पर सरकार द्वारा यह प्रावधान और प्रोविजन किये गए है जहा बताया गया है कि अधिवक्ता और जजिस के ड्रेस कोट क्या होने चाहिए। 

तो पहली बात यह सामने आयी कि ऐसा प्रोविजन है और नियम बना हुआ है। अब बात करते है कि इसके पीछे क्या मानसिकता रही होगी। या क्या सोच रही होगी तो आज इसपे भी बात करेंगे। 

काला रंग इसलिए पहना जाता है ताकि अधिवक्ता न्याय के प्रति अपना समर्पण बता सके। औ अगर हम सफ़ेद की बात करें। 

 एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है

  1. पहला क्युकी 1961 का अधिवक्ता एक्ट में यह प्रोविजन है।
  2. दूसरा काला रंग Power और Authority को दर्शाता है 
  3. काला रंग जो है बह इसलिए भी पहना जाता है ताकि अधिवक्ता न्याय के प्रति अपना समर्पण बता सके।
  4. इसके बारें में साधारण कहें तो माना जाता है की Black कलर अपने आप में Positive और Negative दोनों तरह की सिग्नीफिकेशन रखता है। 
  5. अगर एक तरह से देखा जाये तो काला रंग से मृत्यु का पता चलता है इससे बुराई का भी पता लगता है। और यह रहस्य को भी दर्शाता है या प्रतीत करवाता है। 
  6. और साथ ही काले रंग से ताकत और प्राधिकरण को भी दर्शाता है इसलिए अधिवक्ता या जजिस का ड्रेस कोट काले रंग का होता है। 

तो सफ़ेद रंग प्रकाश और अच्छाई का प्रतिक है अधिवक्ता अधिनियम 1961 में इस बारे में provision किये गए है कि अधिवक्ता को कोनसे ड्रेस कोट अपनाने चाहिए। 

साथ ही बहुत से लोगो का मानना है कि काला कोट इसलिए भी चुना गया क्युकी काला कोट गर्मी को सोख लेता है यानि जब अधिवक्ता जिरह या बहस कर रहे है और उनको पसीना आये तो बह सोख ले।

तो अगर हम मानसिकता की बात करें की क्या मानसिकता रही होगी इसके पीछे तो सबसे पहली बात ये की काला रंग जो है। एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है

बह Power यानि शक्ति को दर्शाता है Black Represents Power and Black Represents Aggression

और अगर हम भारतीय ज्योतिषी की दृष्टि से देखे तो कहते है कि न्याय के देवता जो है बह शनि है और जैसा आप सभी जानते है कि शनि का रंग भी काला होता है,

तो कई सरे तथ्य है जो निकल कर आती है और एक ही जगह आके आपस में जुड़ जाती है। जिससे कि Advocate के dress कोट तैयार होते है या तय होते है। 

तो एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है तो इसका एक मात्र उत्तर होगा कि 1961 में जो Advocate Act है या जो अधिवक्ता अधिनियम है जो यह कहता है कि अधिवक्ता का ड्रेस कोट यह होना चाहिए। 

बाकि जो बाते है जिसक सम्बन्ध कही न कही ये मानसिकता रखते हुए किया गया होगा जैसे कि मेन पहले बता कि शनि का रंग भी काला होता है,

तो इसका मतलब ये नहीं है कि अधिवक्ता इसलिए काला कोट पहनते है कि शनि का रंग काला है बल्कि इसलिए पहनते है क्युकी 1961 का एक्ट यह कह रहा है।

इसे भी पढ़े :- महिला बकीलो की ड्रेस कोड क्या होनी चाहिए

वकील की पोशाक का इतिहास 

तो आईये हम देखते है की एडवोकेट के ड्रेस कोट के पीछे का इतिहास और कुछ महत्वपूर्ण बातें इसके बात हम जानेंगे।

की Male और Female के प्रेस कोट क्या होने चाहिए। या गाउन्स कोन से बकील पहनते है। बकीलो की टाई / Net band होती है बह दो भागो में क्यों वटी होती है।

तो सबसे पहले हम इतिहास की बात करते है तो इसके लिये में आपको 1685 में ले चलता हूँ जब इंग्लैंड के राजा चार्ल्स 2 का निधन हुआ था। 

तो लोगो ने काला कपडा और गाउन्स पहना शुरू किया था। और यही कारण था कि काला कोट दुःख प्रकट करने के लिए पहना जाता रहा। 

और काला कपडा अधिवक्ता और जजिस के लिए यूनिफॉर्म के रूप में डिजाइन कर दिया गया। एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है

और यह भी माना जाता है कि काले रंग का गाउन्स और बिग पहनना उनको आग्र्यात बनाता है, यानि उनको आम लोगो से नहीं जोड़ता है उनको अलगाव यानि लोगो से अलग दिखता है। 

और 17 वी सदी में बिग जो है इसका पहनावा शुरुआत हुआ चर्ल्स द्युतिय के समय यह सुरु हुआ और अंग्रेजो के बीच यह काफी प्रचलित हुआ था। 

1680 के आस-पास अधिवक्ता और जजिस ने बिग पहनना शुरू कर दिया था 150 साल तक यह बिग जो है बह सफ़ेद और भूरे रंग के बालो से बनाते थे। 

आपने फिल्मो में देखा होगा कि जज बिग पहनते थे जो सफ़ेद बालो की तरह दिखाई देता था। तो यह प्रक्रिया लगभग 150 साल तक प्रचलन में रही।

 एडवोकेट कोट के आलावा क्या पहन सकते है 

अब बात करते है की आखिर क्या अधिवक्ता सिर्फ कोट -पेंट ही पहन सकते है या कुछ और भी पहना सकते है।

तो में आपको बता दू कि इस के बारे में भी प्रोविजन है। Advocate  पेंट के साथ-साथ धोती भी पहन सकते है, और इसी के साथ बह अचकन और शेरवानी भी पहन सकते है। 

आसा करते है कि आपको जानकारी पसंद आयी होगी अगर आप हमसे जुड़ना चाहते है तो हमारे YouTube चैनल को click karen - Subscribe करें।

साथ ही हमें हमारे Facebook Page को click kare -Like करें। एडवोकेट काला कोट क्यों पहनते है

Post a Comment

Thank you !
We will reply to you soon