किरायेदार के 10 कानूनी अधिकार

किरायेदार के 10 कानूनी अधिकार 

हेलो दोस्तों कैसे है आप स्वागत है आपका अपने ब्लॉग Gyani law में आज हम बात करने बाले है किरायेदार के कानूनी अधिकार 

भारत के संबिधान ने देश के सभी नागरिको को सामान अधिकार दिए है सम्मान और न्यायपूर्वक जीवन जीने का अधिकार सभी को हमारे संबिधान ने दिया है। 

लेकिन कई बार जानकारी के आभाव में लोगो को न्याय से बंचित रहना पढता है लोगो तक न्याय की पहुंच बड़े और उन्हें जो अधिकार प्राप्त है बह अधिकार उन्हें मिले इसके लिए सरकार मुफ्त कानूनी सहायता देती है।

इसी प्रकार आज हम इस लेख में आपके कानूनों से रूबरू कराएँगे क्या है आपके अधिकार और साथ ही हम जानेंगे की की आपकी मदद के लिए सरकार ने क्या क्या प्रावधान किये है।

महानगरों से लेकर छोटे-बड़े शहरो की सबसे बड़ी समस्या है रहने के लिए मकान या व्यापार के लिए एक दुकान मकान मालिक के लिए जहाँ कोई भी प्रॉपर्टी देना मुनाफा कमाने का एक वेहतर जरिया होता है।

तो बही किरायेदार को मकान-मालिक के साथ एक ताल-मेल विथा के रहना एक बड़ी चुनौती होती है कई बार मकान मालिकों के मनमाने रबइये की बजह से किरायदारों को काफी परेशानिया झेलनी पढ़ती है।

क्युकी प्रॉपर्टी का बह मालिक है इसलिए कानून भी ज्यादातर उनके हक़ में है लेकिन अगर कुछ बातों का ख्याल रखा जाये तो किरायेदार के कानूनी अधिकार भी है।

इसी के साथ यह भी पढ़े :

बकील काला कोट क्यों पहने है 
महिला बकील की ड्रेस क्या होनी चाहिए 
पुरुष बकील की ड्रेस क्या होनी चाहिए

अगर आप एक किरायेदार है या जो मकान-मालिक किरायेदार रखने  जा रहे है तो आपके लिए जानना जरुरी है कि क्या है किरायेदार के कानूनी अधिकार।

तो चलिए जानते है सरकार द्वारा बनाये गए नियम क्या है।

किरायेदार के कानूनी अधिकार

  1. तो सबसे पहले बात आती है Agreement यानि समझौते की तो इसके में सरकार ने यह नियम बनाया है कि कोई भी मकान-मालिक Rent Agreement के बीच में किराया नहीं बढ़ा सकता। यानि अगर आपका एक बार अग्रीमेंट जो किराया दर्ज हुआ है अग्रीमेंट ख़तम होने तक मकान-मालिक चाह कर भी किराया नहीं बढ़ा सकता। 
  2. इसके अलाबा अगर मकान-मालिक किराया बढ़ाना चाहता है तो मकान-मालिक को 3 माह पहले किरायेदार को एक नोटिस देना होगा या उससे 3 माह पहले यह सूचित करना होगा कि बह किराया बढ़ाने जा रहा है। यानि अगर आपके मकान-मालिक बिना आपको अग्रिम सूचना दिए अचानक किराया बढाते है तो आप उसका विरोध कर सकते है।क्युकी यह आपका कानूनी अधिकार है जो आपको सरकार द्वारा प्राप्त है। 
  3. इसी के साथ किरायेदार मकान-मालिक को जो किराये का भुगतान करता है तो किरायेदार को उस मकान-मालिक से उस किराये की रशीद पाने का अधिकार रखता है, यानि आप किराया कैसे भी दे cash या digital लेकिन यह आपका अधिकार है कि आप उससे उस भुगतान की रसीद ले सकते है। 
  4. इसी के साथ मकान-मालिक मकान को किराये पर देते समय जो बॉन्ड होता है यानि जो सुरक्षा राशि होती है या कहे की एडवांस पेमेंट जो होता है बो भी बह सिर्फ 2 माह के किराये से ज्यादा नहीं मांग सकता। यानि एडवांस  राशि के तोर पर आप उसको सिर्फ 2 महीने का किराया ही दे सकते है। किरायेदार के 10 कानूनी अधिकार
  5. इसी के साथ मकान-मालिक Agreement ख़त्म होने से पहले मकान को खली करने के लिए नहीं कह सकता और यदि बह ऐसा करता है यो आप इसका विरोध कर सकते है। 
  6. इसी के साथ कई बार सुनने में आता है की किसी विवाद के चलते मकान-मालिक ने किरायेदार की बिजली या पानी बंद कर दिया है तो मकान-मालिक ऐसा नहीं कर सकता मकान-मालिक को किरायेदार को मूल-भूत सुबिधाये जैसे - पानी, बिजली उपलब्ध करनी होंगी। 
  7. इसी के साथ मकान-मालिक अगर अपना मकान खाली करना चाहता है तो उसे पहले किरायेदार को अग्रिम नोटिस देना होगा अचानक न तो बह किरायेदार को घर खाली कहने को कह सकता है न ही किराया बढ़ाने को। 
  8. इसी के साथ अगर मकान में कोई कमी है या कही टूट-फुट है जैसे - प्लास्टर गिरना, पेंट आदि यानि अगर मकान मरम्मत की स्थिति में है तो मकान-मालिक की यह जिम्मेदारी बनती की बह मकान में मरम्मत कराये और किरायेदार का यह अधिकार भी है कि बह उससे मरम्मत करने को कह सकता है। 
  9. इसी के साथ अगर आप ऐसी जगह रहे है जहाँ आपका किराया 3500 से कम है तो मकान-मालिक 3 साल में 10% प्रतिशत से ज्यादा किराया नहीं बड़ा सकता। यानि मकान-मालिक सिर्फ 3 साल में आपके किराये में 10 % की ही बढ़ोतरी कर सकता है। 
  10. यही जब किरायेदार जब मकान खाली करेगा तो मकान-मालिक ने जो बॉन्ड के रूप में धनराशि ली है बह उसे बापस करनी होगी।

तो ये थे किरायेदार के कानूनी अधिकार अगर आप इसके अलावा हमसे कोई सलाह लेना चाहते है तो हमें Comment Box में बताये हम आपके सबालो का जबाब देने का प्रयाश करेंगे।

साथ ही Gyani law से जुड़ने और कानून की ऐसी ही जानकारियों के लिए आप हमसे You Tube पर भी जुड़ सकते है और हमरे ज्ञानी लॉ चैनल को subscribe कर सकते है।

धन्यवाद

  1. अगर किराया रु०3500/= से अधिक हो तो कितना प्रतिशत बढ़ेगा?

    ReplyDelete
  2. अगर किराया 3500 से ऊपर है तो यह किरायेदार और मकान-मालिक के बिच में हुए Rent Agreement पर निर्भर करता है कि एग्रीमेंट में उन्होंने प्रति वर्ष कितना % परसेंट किराया बढ़ाये जाने का कहा है।

    ReplyDelete
  3. Registered agreement he ki kiraya kbi nhi badhega par ab makan malik kiraya badhana chata he

    ReplyDelete
  4. अगर दुकान मालिक किसी के हाथ दुकान बेच दे तो जो किराएदार उस पर काबिज है और किराया भी लगातार अदा कर रहा है उसका क्या अधिकार है।

    ReplyDelete
  5. अगर दुकान मालिक किसी के हाथ दुकान बेच दे तो जो किराएदार उस पर काबिज है और किराया भी लगातार अदा कर रहा है उसका क्या अधिकार होगा?

    ReplyDelete
  6. 12 th month Ka Kiraya De Diya h.
    12 Din Baad 1 Saal Hoga.
    To Ab Mkan Malik Boll Rha h room Khali Kro

    ReplyDelete

Thank you !
We will reply to you soon